Personality Kya Hai - व्यक्तित्व क्या है?

What is Personality in Hindi

Personality Kya Hai

Personality प्रत्येक व्यक्ति की विशिष्ट पहचान है। यह आपके जीवन के अनुभवों से विकसित होती है। हमारा व्यक्तित्व मतलब हम खुदसे और दुसरो के साथ कैसा व्यव्हार करते है। हम सहज रूप से अपने व्यक्तित्व को उस वातावरण के अनुसार समायोजित करते हैं जिसमें हम विकसित होते हैं।

आपकी पर्सनालिटी अन्य बातो पर भी निर्भर करती है जैसे, आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि, शिक्षा और आपके सामाजिक व्यव्हार से प्रभावित होती है। ये सभी अनुभव हमारे दृष्टिकोण को बदल देते है जिससे व्यक्तिव्त का धीरे धीरे निर्माण होता है।

व्यक्तित्व कई कारकों पर निर्भर करता है:

  • अनुवांशिकता जिससे ये तय होता है की हमारा स्वभाव कैसा होगा।
  • प्राप्त शिक्षा, अनुभव, ज्ञान, और हमारी नैतिकता जो personality को निर्धारित करते हैं।
  • ज्ञान जो नई habits को विकसित करने की अनुमति देता है।
  • हमारी आदते भी हमारी पर्सनालिटी को तय करती है।
  • हम खुदके और दुसरो के बारे में क्या सोचते है।

Personality - व्यक्तित्व में सुधार या परिवर्तन कैसे करें

व्यक्तित्व को बदला नहीं जा सकता, लेकिन स्वभाव के विपरीत, personality ko आसानी से विकसित और सुधारा जा सकता है। अपने व्यक्तित्व को विकसित करने के लिए, आपको लोगो को भी उतना ही महत्व देना होगा जितना आप खुदको देते है।

जब आप किसी व्यक्ति में एक गुणवत्ता पर ध्यान देते हैं, तो आप वास्तव में अपने गुणों की तुलना कर रहे हैं। यह एक प्रक्रिया है जो आपके व्यक्तित्व के विकास में योगदान करती है। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि खुद को कम समजना आपके व्यक्तित्व को प्रभावित करता है जिससे लोग आपके बारे में नकारात्मक सोचेंगे। इसके विपरीत, आपके गुणों का मूल्यांकन करने से आप दूसरों को प्रभावित कर सकते हैं।

अपने व्यक्तित्व को विकसित करने के लिए, आपको अपने गुणों और उन लोगों के बीच के अंतर को कम करना सीखना चाहिए जो आप दूसरों में देखते हैं।

व्यक्तित्व और अधिकार (Authority)

यदि हम अहंकारी नहीं है तो, हम दूसरों की और हमारी खुदकी सभी आज्ञाओं का पालन करेंगे। हम दूसरे के प्रति मदद करने की भावना भी रखेंगे। लेकिन इंसान की रक्षा सेना या सरकारी अफसरों जैसे पुलिस द्वारा की जाती है। तो ये उनका व्यक्तिव होता है दुसरो की मदद और रक्षा करना जो अधिकार उन्हें सरकार के तरफ से मिलते है।

व्यक्तित्व और जीवन का रिश्ता

व्यक्तित्व सामाजिकता का विषय है। सामाजिकता अस्तित्व की बात है। अगर मैं उन हाथों द्वारा दिए गए समर्थन की परवाह नहीं करता जो मेरी मदद करते हैं, (शारीरिक रूप से, भावनात्मक और सामाजिक रूप से), तो मुझे नुकसान होगा।

बचपन से, हमारे अहंकार, हमारी सामाजिक क्षमताओं और हमारी शिक्षा की ताकत के आधार पर, हम सामाजिक रणनीतियों का विकास करेंगे, जो हमें एक प्रमुख व्यक्तित्व की पहचान देगा।

टिप्पणी पोस्ट करें

Post a Comment (0)

नया पेज पुराने